LIC Policy होल्डर्स फटाफट करवा लें यह जरूरी काम, नहीं तो अटक जाएगा मैच्योरिटी का पैसा

LIC Policy Maturity News: भारतीय जीवन बीमा निगम (Life Insurance Policy) देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी है. आज भी देश मध्यमवर्ग (Middle class Investment) अपने पैसों को एलआईसी में निवेश करना सबसे ज्यादा पसंद करते हैं. इसमें निवेश करने से ग्राहकों को दो फायदे मिलते हैं. पहला कि उन्हें एलआईसी की पॉलिसी में निवेश करने पर रिटर्न ज्यादा मिलता है. इसके साथ ही इसमें निवेश करने (Investment Tips) पर पैसे डूबने का खतरा कम रहता है क्योंकि यह मार्केट रिस्क (Market Risk) पर निर्भर नहीं करता है. ऐसे में लोग इसमें जमकर निवेश करते हैं. एलआईसी अपने ग्राहकों को समय-समय पर मैच्योरिटी क्लेम में नियमों के बदलाव के बारे में बताता रहता है.

एलआईसी ने अपने पॉलिसी होल्डर (LIC Policy Holders) को यह जानकारी दी है कि बीमाधारक अपनी पॉलिसी का क्लेम (LIC Policy Claim) आसानी से पाने के लिए एलआईसी को अपने खाते की जानकारी NEFT के लिए उपलब्ध कराएं. बैंक खाते की जानकारी नहीं होने पर पॉलिसी की मैच्योरिटी के बाद आपको इसे क्लिक करके पैसे प्राप्त करने में परेशानी हो सकती है.

आजकल एलआईसी पॉलिसी पूरी होने के बाद पैसे का भुगतान चेक के माध्यम से नहीं करता है. वह सीधे बीमाधारक के अकाउंट में पैसे को ट्रांसफर कर देती है. ऐसे में एलआईसी को अपने अकाउंट के बारे में सही जानकारी देना बहुत जरूरी है. ऐसा न करने पर आपका पैसा अटक जाएगा और आपको इसके लिए कई बार ऑफिस के चक्कर लगाने पड सकते हैं.

इस तरह एलआईसी को बैंक खाते से कराएं लिंक
-एलआईसी अकाउंट (LIC Account) को बैंक खाते से जोड़ने के लिए आपको सबसे पहले https://licindia.in/Marquee-Links/Download-NEFT-Form.aspx पर जाकर फॉर्म डाउनलोड करना पड़ेगा.
-इसके अलावा आप एलआईसी ऑफिस भी जाकर फॉर्म लें सकते हैं. इसके बाद इसे भरकर आप बैंक पासबुक की कॉपी (Bank Passbook Copy) और कैंसिल चेक (Cancel Cheque) को साथ में जमा करें.
-1 हफ्ते के अंदर आपका बैंक अकाउंट (Bank Account) एलआईसी पॉलिसी के साथ लिंक हो जाएगा.
-इसके बाद पॉलिसी की मैच्योरिटी पर पैसे सीधे आपके बैंक खाते में आएंगे.

ये भी पढ़ें-

Gold Purity Test: सोने के गहने खरीदने की है तैयारी तो HUID नंबर से चेक करें प्योरिटी, ये है पूरा प्रोसेस

Indian Railway Rules: ट्रेन में यह गलती करना पड़ सकता है बहुत भारी, जुर्माने के साथ-साथ हो सकती है जेल

Source link ABP Hindi