नौसेना के पोत INS विशाखापत्तनम ने किया ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज़ मिसाइल का परिक्षण

Brahmos Supersonic Cruise Missile: सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रम्होस का आज एक बाप फिर सफल परिक्षण किया गया है. भारतीय नौसेना द्वारा उसके पोत INS विशाखापत्तनम (INS Visakhapatnam) द्वारा क्रूज मिसाइल का परिक्षण किया गया था. समाचार एजेंसी एएनआई द्वारा साझा की गई जानकारी के मुताबिक यह पोत 21 फरवरी को राष्ट्रपति द्वारा फ्लीट रिव्यू (Fleet Review) में हिस्सा लेने के लिये विशाखापत्तनम लाया गया है.

गौरतलब है कि देश के राष्ट्रपति समंदर में अपनी नौसेना की ताकत देखने के लिये 21 फरवरी को यहां पर आयेंगे. देश के राष्ट्रपति और सशस्त्र-सेनाओं के सुप्रीम कमांडर रामनाथ कोविंद खुद 21 फरवरी को विशाखापट्टनम में नौसेना और कोस्टगार्ड के युद्धपोत और लड़ाकू विमानों की क्षमताओं की समीक्षा करेंगे. इस रिव्यू में 50 युद्धपोत और 50 लड़ाकू विमान हिस्सा लेंगे.


दुनियाभर की परंपरा का हिस्सा है नेवल फ्लीट रिव्यू

भारतीय नौसेना के मुताबिक, लंबे समय से नेवल फ्लीट रिव्यू दुनिया भर की नौसेनाओं की परंपरा का हिस्सा रही है. ये समीक्षा नौसेना की ताकत और युद्ध की तैयारियों के लिए शुरू की गई थी. लेकिन मौजूदा समय में ये बिना किसी उकसावे या फिर युद्धक मानसिकता के बगैर अपने जंगी बेड़े को एक जगह इकठ्ठा करना है.

नौसेना के मुताबिक, प्रेसिडेंट फ्लीट रिव्यू का मकसद भारतीय नौसेना की तैयारियों, उच्च अनुशासन और मनोबल को दर्शाना है. आजादी के बाद से अबतक भारतीय नौसेना 11 फ्लीट रिव्यू आयोजित कर चुकी है. पहला रिव्यू 1953 में हुआ था और आखिरी 2016 में.

विशाखापट्टनम में किया गया था इंटरनेशनल फ्लीट रिव्यू का आयोजन

2016 में विशाखापट्टनम में ही भारतीय नौसेना ने इंटरनेशनल फ्लीट रिव्यू (आईएफआर) का आयोजन किया था जिसमें करीब 50 देशों के 100 युद्धपोतों ने हिस्सा लिया था. आईएफआर के बाद एक बार फिर विशाखापट्टनम में प्रेसिडेंट फ्लीट रिव्यू का आयोजन होने जा रहा है‌.

America ने पांच भारतीय बाजारों को बताया कुख्यात, इंडियामार्ट और पालिका बाजार भी शामिल

Afghanistan को लेकर अमेरिकी राजनयिक की दो टूक, ‘पाकिस्तान ने सहयोग दिया होता तो वहां हालात अलग होते’

Source link ABP Hindi