दिल्ली के सीमापुरी इलाके से एक्सप्लोसिव बरामद

Delhi: राजधानी दिल्ली के सीमापुरी इलाके में एक घर से बरामद हुए आईईडी के बाद इलाके में दहशत का माहौल है. दिल्ली का ओल्ड सीमापुरी इलाका जहां एक रिहायशी एरिया में किराए के मकान में आईईडी की बरामदगी हुई. गुरुवार को दिल्ली पुलिस के स्पेस सेल ने मौके से करीब तीन किलोग्राम की आईईडी बरामद की जिसे एनएसजी की सहायता से डिफ़्यूज़ किया गया.

जानकारी के मुताबिक, जांच कर रही स्टेशल सेल को पाकिस्तान के ISI पर IED प्लांट करवाने का शक है. स्पेशल सेल सूत्रों के मुताबिक पहले गाजीपुर RDX और फिर ओल्ड सीमापुरी में IED के पैटर्न से साफ है कि पाकिस्तान ISI बड़ी खौफनाक साजिश पहले ही तैयार कर चुका है और सीमा पार से उसने पंजाब जम्मू-कश्मीर के रास्ते विस्फोटक आर्म्स भारत भेजे हैं. जहा देश में मौजूद कई स्लीपर सेल ISI की शह या यूं कहें भाड़े पर देश विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने की फिराक कर रहे है.

दरअसल, दिल्ली के ओल्ड सीमापुरी इलाके में कुछ संदिग्ध आतंकियों के छिपे होने का इनपुट मिलने के बाद दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने वहां एक मकान पर रेड मारी. पुलिस जब वहां पहुंची तब तक संदिग्ध फरार हो चुके थे जो अब तक फरार हैं. मकान पर लगे ताले को तोड़कर पुलिस अंदर दाखिल हुई तो उन्हें एक संदिग्ध बैग और कुछ डॉक्यूमेंट हाथ लगे. जिसके बाद बीडीएस और एनएसजी की टीम को बुलाया गया. एनएसजी की जांच के बाद ये साफ हो गया कि बैग में आईईडी है. IED में 3 किलोग्राम विस्फोटक का इस्तेमाल किया गया था.

जानकारी के मुताबिक, ये विस्फोटक गाजीपुर से मिले IED से मेल खाता था. हाल ही में कुल्लू से भी इसी तरह का विस्फोटक कार से बरामद हुआ था. जिसके बाद आईईडी को एनएसजी की टीम ने बोम्ब डिस्पोजल इक्विपमेंट की मदद से वहां से उठाकर दिलशाद गार्डन के एक पार्क लेजाकर 8 फीट गहरे गड्ढे में दबाकर डिफ्यूज किया.

IED का बैग कमरे पर छोड़कर फरार हो गया कासिम

दरअसल दिल्ली के गाजीपुर इलाके की फूलमंडी में कुछ समय पहले जो RDX मिला था उस मामले की जांच करते हुए स्पेशल सेल की टीम दिल्ली के सीमापुरी इलाके के घर में पहुंची थी. जिस मकान से IED बरामद हुआ वो कासिम नाम के शख्स का है जिसने कुछ दिन पहले एक लड़के को प्रॉपर्टी डीलर शकील के जरिये अपने मकान का सेकंड फ्लोर एक लड़के को किराए पर दिया था. 10 दिन पहले उसके साथ यहां 3 और लड़के रहने आ गए. पुलिस के पहुंचने से पहले सभी IED का बैग कमरे पर छोड़कर फरार हो गए. दरअसल गाज़ीपुर में मिले आईईडी और आरडीएक्स मामले की जांच के दौरान स्पेशल सेल ने कई दर्जन संदिग्ध फोन कॉल इंटरसेप्ट किये थे जिसके आधार पर इस घर का पता चला था.

मकान मालिक ने युवकों का नहीं कराया था पुलिस वेरीफिकेशन

सूत्रों के मुताबिक, 29 जनवरी की रात हिमाचल प्रदेश के कल्लू में पार्किग में खड़ी एक कार में हुए धमाके के तार गाजीपुर में बरामद IED से जुड़े थे. FSL की टीम ने उस कार से जो ट्रेसेस यानी मैगनेट बरामद किए थे वो भी गाजीपुर से बरामद एक्सप्लोसिव से मेल खाते हैं. आज फिर इसी कड़ी में दिल्ली के ओल्ड सीमापुरी के मकान से IED बरामद हुए. पुलिस सूत्रों के मुताबिक फरार संदिग्ध फर्जी नाम पते पर ओल्ड सीमापुरी के इस मकान में रह रहे थे. मकान मालिक ने उनका पुलिस वेरीफिकेशन नहीं कराया था. पुलिस को घर से कुछ कपड़े और कुछ अन्य समान भी बरामद हुए. लेकिन जिस तरीके से गाजीपुर, ओल्ड सीमापुरी के तार हिमाचल प्रदेश के कुल्लू से जुड़े हैं वो देश मे बड़ी आतंकी साजिश की और इशारा कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें.

Manmohan Singh पर Nirmala Sitharaman का पलटवार, कहा- आपने भारत को कमजोर बनाया, देश में भीषण महंगाई भी रही

Election 2022: पंजाब में आज थमेगा चुनाव प्रचार का शोर, आखिरी राउंड की टक्कर से पहले ढाबे पर खाना खाते दिखे राहुल, चन्नी ने खेली फुटबॉल

Source link ABP Hindi