दाऊद के भाई इकबाल कासकर को ईडी ने किया गिरफ्तार, स्पेशल कोर्ट ने 7 दिन की कस्टडी में भेजा

Enforcement Directorate Arrests Iqbal Kaskar: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दाऊद और उसके सहयोगियों के खिलाफ हाल ही में दर्ज मनी लॉन्ड्रिंग के मामले की जांच के तहत गैंगस्टर दाऊद इब्राहिम के भाई इकबाल कासकर को ठाणे जेल से गिरफ्तार किया. ED ने दाऊद इब्राहिम के भाई इकबाल कासकर को पीएमएलए कोर्ट में पेश करते हुए उसके लिए 7 दिनो की कस्टडी की मांग की है, जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया है. अब 7 दिनों तक कासकर ईडी की कस्टडी में रहेगा. स्पेशल कोर्ट ने पूछा कि क्या उसे किसी भी तरह से कोई टॉर्चेर किया गया है, जिसका जवाब उसने न में दिया.

ईडी ने कोर्ट में अर्जी दाखिल कर इकबाल कासकर से पूछताछ की इजाजत मांगी थी. मंगलवार को छोटा शकील के सहयोगी सलीम कुरैशी उर्फ ​​सलीम फ्रूट से मनी लॉन्ड्रिंग मामले में पूछताछ की गई. ईडी का मामला राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) के उस मामले से जुड़ा हुआ है जिसमें दाऊद इब्राहिम डी-कंपनी के खिलाफ पिछले हफ्ते गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (UAPA) के तहत आतंक फैलाने और धार्मिक सद्भाव को बिगाड़ने की योजना बनाने के लिए FIR दर्ज की गई थी. डॉन से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले को लेकर ईडी के करीब 70 अधिकारियों ने दाऊद इब्राहिम के भाई इकबाल कासकर, छोटा शकील के बहनोई सलीम फ्रूट और इब्राहिम की बहन हसीना पारकर के घर सहित 10 परिसरों की तलाशी ली.

रिपोर्ट के मुताबिक ईडी को शक है कि ये लोग जबरन वसूली, नशीले पदार्थों की तस्करी, मुंबई के विभिन्न इलाकों में अचल संपत्ति की बिक्री और अन्य गैरकानूनी गतिविधियों के जरिए अवैध रूप से धन जमा करते हैं. वे प्राप्त धन का इस्तेमाल आतंकवादी गतिविधियों या फिर राष्ट्र विरोधी कामों के लिए करते हैं. न्यूज एजेंसी के मुताबिक सूत्रों के मुताबिक एंटी मनी लॉन्ड्रिंग एजेंसी ने मुंबई और दुबई में काम कर रहे भारतीय कारोबारियों से जुड़े इन कथित अवैध संपत्ति सौदों से जुड़े दस्तावेज बरामद किए हैं.

इन संदिग्ध सौदों के कुछ राजनीतिक संबंध भी एजेंसी की जांच के दायरे में हैं. कासकर को ठाणे पुलिस ने 2017 में रंगदारी के मामले में गिरफ्तार किया था. ठाणे पुलिस ने इकबाल कासकर और अनीस इब्राहिम और अन्य के खिलाफ रिकवरी का मामला दर्ज किया था, जिनके दस्तावेज ईडी ने ले लिए हैं.

ये भी पढ़ें – CAA विरोधी प्रदर्शनकारियों से ज़ब्त संपत्ति UP में लौटाई जाएगी, SC ने नए कानून के आधार पर दोबारा प्रक्रिया शुरू करने को कहा

ये भी पढ़ें- NSE की पूर्व एमडी Chitra Ramakrishna से CBI ने की पूछताछ, बाबा के प्रभाव में आकर फैसला लेने का है मामला

Source link ABP Hindi