तीसरे चरण में बीजेपी के इन मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर, क्या यूपी में खिला पायेंगे कमल?

UP Assembly Election 2022: यूपी विधानसभा चुनाव में अब तीसरे राउंड की टक्कर होने वाली है. तीसरे चरण की 59 सीटों पर 20 फरवरी को वोट डाले जाएंगे. वैसे चुनाव का हर चरण अहम है, लेकिन इस चरण में जिसने बढ़त बनाई, सत्ता की चाबी उसी के पास जाने की उम्मीद है. यूपी में विधानसभा चुनावों के अंतर्गत एक पार्टी का दूसरी पार्टी पर निशाने के दौर जारी हैं.

करहल सीट पर कड़ा मुकाबला

इस बार यूपी में करहल विधानसभा सीट पर अखिलेश यादव और केंद्र सरकार में मंत्री एसपी सिंह बघेल आमने सामने हैं. यहां पर भले ही यादव वोट बैंक का वर्चस्व है लेकिन एसपी सिंह बघेल के चुनावी मैदान में उतरने से मुकाबला कड़ा है. यहां पर कुल वोटर्स का 38 फीसदी वोट केवल यादवों का है. दूसरे नंबर पर क्षत्रिय मतदाता हैं. इसके अलावा लोधी और अन्य समाज के भी वोटर्स हैं. यहां से केवल एक बार बीजेपी विजयी हुई है.

मैनपुरी की भोगांव सीट पर भी कड़ा मुकाबला

वहीं आबकारी मंत्री रामनरेश अग्निहोत्री की भी प्रतिष्ठा दांव पर है. वह मैनपरी की भोगांव सीट से विधायक हैं. इस बार फिर से एक बार बीजेपी ने उनको अपना प्रत्याशी बनाया है. कानपुर नगर की महारजपुर सीट से यूपी सरकार के कद्दावर मंत्री सतीश महाना एक बार फिर से मैदान पर हैं. उनके सामने समाजवादी पार्टी के फतेह बहादुर गिल को उम्मीदवार खड़ा कर मुकाबले को दिलचस्प बना दिया गया है.

सादाबाद विधानसभा सीट पर भी कांटे की टक्कर

सादाबाद विधानसभा सीट पर इस बार बीजेपी ने कभी बीएसपी के ब्राह्मण चेहरे रहे रामवीर उपाध्याय पर अपना दांव लगाया है. सपा के प्रदीप चौधरी उन्हें टक्कर दे रहे हैं. वहीं कन्नौज से इस बार आईपीएस से राजनेता बने असीम अरुण बीजेपी के टिकट पर कन्नौज से उम्मीदवार बनाये गये हैं. उनके सामने सपा के अनिल कुमार ताल ठोंक रहे हैं. कांग्रेस ने विनीता देवी और एआईएमआईएम ने सुनील कुमार को इस सीट से उम्मीदवार बनाया है. ऐसे में असीम अरुण के सामने बड़ी चुनौती है.

मौत का कुआं: Kushinagar में 13 लोगों की मौत पर PM Modi ने जताया दुख, प्रशासन ने किया 4-4 लाख के मुआवजे का एलान

Channi के ‘यूपी-बिहार’ बयान पर घमासान, CM Yogi बोले- Congress की नीति विभाजनकारी, मायावती ने भी किया हमला

Source link ABP Hindi