चावल के 5 दानों के ये उपाय है बहुत प्रभावशाली, करते ही बदल जाएंगे दिन, छप्पर फाड़ होगी धन वर्षा

Rice Remedy: पूजा में इस्तेमाल होने वाली हर चीज का अपना अलग महत्व है. इसी तरह पूजन में अक्सर आप अक्षत या चावल का इस्तेमाल भी करते होंगे. पूजा के दौरान अक्षत का इस्तेमाल बहुत ही पवित्र माना गया है. इसके बिना पूजा-पाठ को पूर्ण नहीं माना जाता है. धार्मिक मान्यता है कि पूजा के दौरान किसी भी चीज की कमी रहने पर अक्षत को उसकी जगह चढ़ा दिया जाता है. लेकिन भगवान विष्णु (Lord Vishnu) को छोड़कर बाकी सभी देवी-देवताओं को चावल या अक्षत अर्पित किए जाते हैं. चावल को सिर्फ पूजा में ही नहीं बल्कि कई उपायों में भी इस्तेमाल किया जा सकता है. आइए जानें चावल से किए जाने वाले इन उपायों के बारे में.

चावल के दानों के उपाय (Akshat Remedy)

– धार्मिक ग्रंथों के अनुसार पूजा में टूटे हुए चावलों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. अक्षत को पूर्णता का प्रतीक माना गया है. इसलिए खंडित चावल नहीं चढ़ाने चाहिए. अक्षत का मतलब होता है साबुत चावल. मान्यता है कि भगवान के समक्ष रोजाना चावल के 5 दाने चढ़ाने से धन वृद्धि होती है.

– इसके साथ ही ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव (Lord Shiva) को प्रसन्न करने के लिए शिवलिंग (Shivling) पर चावल अर्पित करें. लेकिन इस दौरान इस बात का खास ख्याल रखें कि भगवान शिव को साफ और बिना टूटा चावल चढ़ाएं. कहते हैं कि भगवान शिव भक्तों को अखंड सौभाग्य का आशीर्वाद देते हैं.

– ग्रंथों के अनुसार मां अन्नपूर्णा को घर में चावल की ढेर पर स्थापित करने से घर में कभी धन-वैभव की कमी नहीं रहती.

– अन्न में अक्षत को सबसे उत्तम माना गया है. इतना ही नहीं, चावल को देवताओं का अन्न भी कहा जाता है. अक्षत और कुमकुम को साथ मिलाकर भगवान को अर्पित करने से पूजा जल्दी स्वीकार होती है और भगवान साधक को अखंड सौभाग्य का आशीर्वाद प्राप्त होता है.

– पूजा को पूर्ण करने के लिए पूजा के दौरान अक्षत चढ़ाए जाते हैं. अन्न में चावल को श्रेष्ठ माना गया है और भगवान को चावल अर्पित करते समय मन में यही विचार आने चाहिए कि जो कुछ भी मिल रहा है वो भगवान की कृपा से ही संभव हुआ है.

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

शनि 30 साल बाद कुंभ राशि में करने जा रहे हैं प्रवेश, 4 राशि वालों की खुल जाएगी किस्मत

Guruvar Vrat Rules: गुरुवार के व्रत में इन 5 अहम नियमों का पालन है जरूरी, जरा-सी चूक से नहीं मिलता व्रत का पूरा फल

Source link ABP Hindi