गुरुवार के व्रत में इन 5 अहम नियमों का पालन है जरूरी, जरा-सी चूक से नहीं मिलता व्रत का पूरा फल

Lord Vishnu Vrat Niyam: गुरुवार का दिन भगवान विष्णु (Lord Vishnu) को समर्पित है. इस दिन श्री हरि (Shri Hari Puja) की पूरे विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना की जाती है. मान्यता है कि इस दिन भगवना विष्णु की सच्ची श्रद्धा और भक्ति भाव से पूजा करने से उनकी कृपा प्राप्त होती है और वे प्रसन्न होकर भक्तों के सभी संकट दूर करते हैं. अगर आप आज पहली बार व्रत रख कहे हैं, तो गुरुवार के इन व्रत नियमों (Thursday Vrat Niyam) को पहले से जान लेना जरूरी है. आइए जानें.

गुरुवार के दिन व्रत के समय रखें इन बातों का ध्यान (Bhagwan Vishnu Vrat Niyam)

कब से शुरू करें व्रत

अगर आप पहली बार गुरुवार के व्रत रखने की सोच रहे हैं, तो बता दें कि गुरुवार के व्रत पौष माह से शुरू किए जाते हैं. इसके अलावा, गुरुवार के दिन पुष्य नक्षत्र होने पर भी व्रत शुरू करना अच्छा माना गया है या फिर किसी भी माह के शुक्ल पक्ष के पहले गुरुवार से व्रत रख सकते हैं. इसे 16 गुरुवार तक रखना होता है.

इस दिन केले का सेवन है वर्जित

धार्मिक मान्यता है कि केले के पेड़ में भगवान विष्णु का वास होता है. इसलिए आज के दिन केले के पेड़ को जल अर्पित कर कथा श्रवण किया जाता है. इस दिन भूल से भी केले का सेवन न करें.

पीली चीजों का दान है जरूरी

मान्यता है कि भगवान विष्णु को पीले चीजें अत्यंत प्रिय हैं. इसलिए गुरुवार के दिन पीली चीजों का दान लाभदायी होता है. इस दिन पीला कपड़ा, चने की दाल और केला आदि भगवना को अर्पित करने के बाद उसे किसी गरीब को दान दे देना चाहिए. इससे विष्णु जी की कृपा बनी रहती है और उसका आशीर्वाद प्राप्त होता है.

भूलकर न खाएं चावल या खिचड़ी

मान्यता है कि गुरुवार के व्रत में पीला भोजन ही ग्रहण करें. इससे भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं. इस दिन भूल से भी काली दाल की खिचड़ी या फिर चावलों का सेवन न करें. इस दिन चावल खाने से धन हानि होती है. पूजा में भगवान विष्णु को चावल की जगह तिल अर्पित कर सकते हैं.

गाय को रोटी दें

मान्यता है कि गाय में कई करोड़ देवी-देवताओं का वास होता है. शास्त्रों में लिखा है कि गाय को गुरुवार के दिन रोटी और गुड़ खिलाने से भक्तों के सभी कष्ट दूर होते हैं और जीवन में खुशहाली आती है.

न काटें बाल और नाखून

गुरुवार के दिन बाल और नाखून काटने की मनाही होती है. ऐसा करने से कुंडली में मौजूद गुरु कमजोर होता है. वहीं, इससे धन हानि होती है. घर में इस जिन कोई भी व्यक्ति कपड़े न धोए और बाल न काटे. इससे मान हानि होती है.

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

शनि 30 साल बाद कुंभ राशि में करने जा रहे हैं प्रवेश, 4 राशि वालों की खुल जाएगी किस्मत

मानस मंत्र: साधु चरित सुभ चरित कपासू के समान, संत समाज की त्रिवेणी में डुबकी लगाने से मिलते है इसी लोक में सब फल

Source link ABP Hindi