ओवैसी के हमलावरों के समर्थन में आए योगी आदित्यनाथ के मंत्री, बचाने के लिए कही यह बात

उत्तर प्रदेश सरकार (UP Government) के राज्य मंत्री सुनील भराला ने एआईएमआईएम (AIMIM) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) पर हमले के आरोपियों का समर्थन किया है. भराला ने इस मामले में गिरफ्तार किए गए सचिन शर्मा के परिजनों से मुलाकात भी की है. भराला उत्तर प्रदेश श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष हैं.

योगी आदित्यनाथ के मंत्री ने की आरोपियों से मुलाकात

मंत्री ने ट्वीट किया, ”हम सचिन और शुभम के परिवार को हर तरह से पूरा सहयोग देंगे. मामले में निष्पक्ष जांच होगी.” भराला ने मंगलवार को गौतमबुद्ध नगर में शर्मा के परिवार से मुलाकात की थी. उन्होंने दोनों आरोपियों को निर्दोष बताया है.

UP Election 2022: जालौन पहुंचे Imran Pratapgarhi ने कांग्रेस के लिए मांगा वोट, शायराना अंदाज में भाजपा सरकार पर बोला हमला

एक प्रतिनिधिमंडल के साथ आरोपी के गांव पहुंचे भराला ने पत्रकारों से कहा कि ओवैसी पर हुए हमले में दोनों निर्दोष ब्राह्मण बच्चों को जानबूझकर फंसाया गया है.परिवार के लोगों ने भी कहा कि बिना तथ्यों और सबूतों के बच्चों को फंसाया गया. सभी ने दोनों आरोपी के परिवार को पर्याप्त सुरक्षा देने की मांग भी की है. भराला ने कहा राष्ट्रीय परशुराम परिषद के नेतृत्व में दोनों निर्दोष बच्चों की कानूनी पैरवी वरिष्ठ अधिवक्ताओं की एक कमेटी करेगी और पूरे केस की निष्पक्ष जांच की जाएगी.

भराला ने कहा, “हम सचिन के साथ खड़े हैं और यह हमारा परिवार है. सचिन पर झूठा मुकदमा कर उसे फंसाया गया है और उसे जेल भिजवा कर लोग राजनीति कर रहे हैं और प्रधानमंत्री और पुलिस को चेतावनी देकर कहते हैं कि 20 मिनट के लिए सुरक्षा हटा लो, पता नहीं इतने में ये क्या कर देंगे? कहां ये एक हमले पर ही सुरक्षा बुलेटप्रूफ गाड़ी मांगने लगे. हमारे गृह मंत्री ने उन्हें सुरक्षा भी दी और वह भी जेड प्लस सिक्योरिटी. उसके बाद भी वह बोल रहे हैं कि हमें बुलेटप्रूफ गाड़ी दो और हथियार रखने की अनुमति दो. हम अन्याय नहीं होने देंगे और निष्पक्ष जांच कराएंगे कि सचिन को जेल क्यों भेजा गया?”

असदुद्दीन ओवैसी पर कब और कहां हुआ था हमला?

ओवैसी हापुड़ में चुनाव प्रचार कर 3 फरवरी को दिल्‍ली वापस लौट रहे थे. इस दौरान मेरठ टोलप्लाजा के पास उनकी कार पर फायरिंग की गई थी.पुलिस ने मामले में दो आरोपियों सचिन और शुभम को गिरफ्तार किया था. दोनों ने पूछताछ में बताया था कि ओवैसी और उनके छोटे भाई के बयानों से वो बेहद नाराज थे. इसलिए वो उनकी हत्या करना चाहते थे.

UP Election: प्रयागराज में बीजेपी नेता का विवादित बयान, कहा- चुनाव जीतने के लिए दंगा-फसाद, लात-जूता सब…

Source link ABP Hindi