ऑफलाइन NEFT और RTGS के बारे में सुना है आपने? जब ना हो कोई रास्ता तो अपनाएं ये खास तरीका

Offline RTGS & NEFT: ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर (Online Money Transfer) के लिए शहरी इलाकों में मोबाइल (Mobile) कंप्यूटर (Computer) और हर समय इंटरनेट (Internet) की सुविधा होती है. इससे शहरी लोगों को इसमें कोई परेशानी नहीं आती लेकिन गांवों या छोटे कस्बों में ऑनलाइन रकम भेजना मुश्किल होता है.

ऑफलाइन RTGS और NEFT
शहर में लोग NEFT और RTGS के जरिए जब चाहें पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं लेकिन ग्रामीण इलाकों में इंटरनेट कनेक्टिविटी अच्छी नहीं होती. क्या आप जानते हैं कि इस दिक्कत से निजात दिलाने के लिए NEFT और RTGS सर्विस को ऑफलाइन भी लिया जा सकता है.

ऑफलाइन मनी ट्रांसफर के लिए जरूरी बातें
NEFT और RTGS की ऑफलाइन सर्विस उन लोगों के लिए फायदेमंद है जिनके पास मोबाइल, कंप्यूटर या फिर अच्छी इंटरनेट कनेक्टिविट नहीं है. इसके साथ ही जिन लोगों को ऑनलाइन बैंकिंग तकनीक का इस्तेमाल करना नहीं आता, वे भी इस सुविधा का उपयोग कर सकते हैं. इस ऑफलाइन सुविधा का लेने के लिए जिस बैंक में आपका अकाउंट है, उसकी नजदीकी ब्रांच में जाना होगा. आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि उस ब्रांच में यह सुविधा उपलब्ध हो.

क्या हैं ऑफलाइन NEFT और RTGS के फायदे
इसके जरिए आप बिना नेट और नेटबैंकिंग के भी अपना पैसा जहां चाहें वहां भेज सकते हैं. ये सुविधा खासतौर पर उन लोगों के लिए है जो मोबाइल बैंकिंग या नेटबैंकिंग भी इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं और जहां इंटरनेट कनेक्टिविटी बिलकुल ना आती हो.

ऑफलाइन NEFT और RTGS ऐसे करें
एनईएफटी और आरटीजीएस के लिए आपको बैंक में एक फॉर्म भरना होता है जिसे NEFT या RTGS फंड ट्रांसफर रिक्वेस्ट फॉर्म कहते हैं. इसमें आपको जिसे पैसा भेजना है उसका नाम, अकाउंट नंबर, बैंक का नाम, IFSC और राशि भरनी होती है. इस फॉर्म के साथ आप उतनी ही राशि का चेक भी नत्थी भी करें. इसके बाद इसे बैंक में जमा कराएं और एनईएफटी या आरटीजीएस के जरिए आपके पैसे ट्रांसफर हो जाएंगे. इसके लिए आपको बैंक को कुछ शुल्क भी चुकाना होता है.

IFSC कोड फंड ट्रांसफर के लिए जरूरी
ऑफलाइन NEFT और RTGS से फंड ट्रांसफर करने के लिए आप जिसे पैसे भेजना चाहते हैं उसके बैंक की शाखा का आईएफएससी कोड होना जरूरी होता है. यह कोड 11 नंबर का होता है और यह हर ब्रांच का अलग-अलग होता है. इसलिए आपको आईएफएससी कोड का पता होना चाहिए.

ये भी पढ़ें

Maruti Cars on Rent: मारुति की गाड़ियों को किराए पर देने के कारोबार का विस्तार, MSIL ने मिलाया क्विकलीज से हाथ

GST: इन लोगों को अपनी इस कमाई पर देना होगा 18 फीसदी GST, लाखों लोगों पर होगा असर ! जानें क्या फैसला आया

Source link ABP Hindi